Chhattisgarh

Bijapur News : बीजापुर में शिक्षा, खेती, उद्योग से बदलाव की कवायद

bijapur Chhattisgarh में रोजगार बढ़ाने की कवायद

सौरभ सोनी । एडीटर

Bijapur News  : मंत्री श्री लखमा ने कहा कि बीजापुर में अब तेजी से बदलाव हो रहा है। लोग मुख्यधारा से जुड़ते जा रहे हैं। अब यहां स्कूल की घंटियां सुनाई पड़ती हैं, मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल के नेतृत्व में आदिवासी अंचलों का विकास प्राथमिकता से हो रहा है।

bijapur chhattisgarh  : युवा, किसानों और आदिवासियों को मिला तरक्की का जरिया

बीजापुर छत्तीसगढ़ का नक्सल प्रभावित क्षेत्र है। यहॉ नक्सली विचारधारा को मिटान की कवायद चल रही है । बीजापुर में नक्सलियों के सफाये और उन्हें मुख्यधारा में लाने का सरकार का प्रयास जारी है। बीजापुर के निवासियों को सौगात देने में भी सरकार पीछे नही है और इसी का नतीजा है कि बीजापुर के किसानों और महिलाओं तथा युवाओं को ज्यादा से ज्यादा सुविधाओं का लाभ मिले ऐसी योजनाओं को लागू किया जा रहा है।

bijapur : आदिवासियों को वनाधिकार पट्टा , किसानी खेती को बढ़ावा

Bijapur Latest News in Hindi  :  राज्य शासन में मंत्री कवासी लखमा ने कहा  कि मुख्यमंत्री श्री बघेल के पहल से किसानों को कर्ज के बोझ से मुक्ति मिली है, वनअधिकार पट्टे मिलने से आदिवासियों को खेती-किसानी से जुड़ते जा रहे हैं। भूमि समतलीकरण, डबरी निर्माण किया जा रहा है। किसानों की आमदनी में वृद्धि के लिए उन्हें बागवानी, उद्यानिकी फसलों एवं पशुपालन से जुड़ने के लिए प्रेरित किया जा रहा है। उक्त बातों से स्पष्ट है कि सरकार ने आदिवासियों के हित में जो कार्य किये हैं उनका सीधा लाभ मिल रहा है।

किसानो के हित में भी सरकार ने किये कार्य :

chhattisgarh bijapur  : बीजापुर जिला का विकास इस बात पर भी निर्भर करता है कि किसानों को क्या लाभ मिला है तो आपको बता दें कि कवासी लखमा ने कहा है कि  समर्थन मूल्य पर धान खरीदी एवं राजीव गांधी किसान न्याय योजना से किसान समृद्ध और खुशहाल हो रहे हैं। पंजीकृत किसानों की संख्या में लगातार वृद्धि हो रही है।  पहली बार शहरी क्षेत्रों में भी वनअधिकार पट्टा दिया जा रहा है।  वहीं किसान, गायता पेरमा मांझी को राजीव गांधी ग्रामीण भूमिहीन मजदूर न्याय योजना में साल में 7 हजार रूपए दिए जा रहे हैं। उक्त बातों से यह भी बात साफ है ‍कि सरकार की न्याय योजना का असर देखने जमीनी स्तर पर देखने को मिले इसके लिये सीधे किसानों को लाभ दिया जा रहा है।  

bijapur Chhattisgarh में रोजगार बढ़ाने की कवायद

इटपाल में गारमेंट यानी कपड़े का उद्योग स्थापित किया जायेगा जिससे बीजापुर के नागरिकों को रोजगार मिलेगा। आने वाले दिनों में रोजगार मिलने के कारण से ही नक्सलियों की गतिविधियों में भी असर देखने को मिलेगा। शिक्षित और खुशहाल बीजापुर बनाने के इरादे से ही  ग्राम पंचायत ईटपाल को  विभिन्न विकास कार्यों की सौगात दी गर्ग है। जिले के प्राचीन एवं ऐतिहासिक मंदिर कोदई माता मंदिर जैतालूर के मेला प्रागंण स्थल के सौन्दर्यीकरण कार्य, 2 करोड़ 62 लाख की लागत से गारमेंट फैक्ट्री की स्थापना ईटपाल में, इनके साथ ही ईटपाल, जैतालूर और मांझीगुड़ा में कांक्रीट सड़क, नाली, पुल, पुलिया, बाऊंड्री वाल जैसे विभिन्न विकास कार्यों के लिए 4 करोड़ 19 लाख रूपए की सौगात दी।

बीजापुर : बुनियादी यानी बेसिक शिक्षा को बढ़ावा

Bijapur news in hindi : bijapur जिले में संचालित समर्थन बुनियादी शिक्षा अभियान के तहत बेसिक शिक्षा यानी बुनियादी शिक्षा को भी बढ़ावा देने की कोशिश की जा रही है, कन्या आश्रम आवापल्ली (उसूर) में शिक्षकों को रीड एलोंग बाय गूगल एप के बारे में बताया गया था। 

रीड एलोंग बाय गूगल एप के बारे में बताया कि कैसे डाउनलोड करना है तथा इसका उपयोग कैसे करना है, ऐप को डाउनलोड करने के पश्चात बीजापुर का पार्टनर कोड 1234bija को जोड़ना तथा इस एप से बच्चे रोचक खेल और कहानियों के माध्यम से “दिया” नाम की गूगल असिस्टेंट जो कि बच्चों को पढ़ने में मदद करती है,और इसके फायदे: 1000 से भी अधिक कहानियां तथा रोचक खेल हैं जिससे बच्चें हाव भाव के साथ पढ़ना सीख सकता हैं। साथ ही आठ अलग-अलग भाषाओं में बच्चे पढ़ना सीख सकते हैं। जब अच्छे से पढ़ने पर बच्चों को सितारें और दिया शाबाशी भी देती है। रीडिंग ग्रुप बनाना भी बताया गया। –

श्री अरुण कुमार  के अनुसार।

बीजापुर जिले में शिक्षा व्यवस्था को सुधारने लगातार प्रयास किया जा रहा है। वहीं पढ़े-लिखे शिक्षित युवाओं की भविष्य को लेकर काफी संवेदनशील है। जिसका उदाहरण हमें युवाओं के चेहरे की मुस्कान बताती है। हर युवा पढ़ लिखकर बड़ा अफसर बनने का ख्वाब देखता है किंतु बीजापुर की बात करें तो छत्तीसगढ़ के सबसे दूरस्थ जिला है, पहाड़ों, जंगलों और घाटियों के बीच बसाहटे हैं दूरी के वजह और ज्यादातर आदिवासी समुदाय युवावर्ग हैं जो कि आर्थिक रूप से सक्षम नहीं होने के कारण अपना सपना साकार नहीं कर पाते इन्हीं सब परिस्थितियों से अवगत होकर युवाओं के बेहतर भविष्य के परिकल्पना को साकार करने बीजापुर मुख्यालय में निःशुल्क कोचिंग सेंटर की शुरूआत की गयी है। जिसका युवाओं में उत्साह देखने को मिला प्रारंभिक चरणों में 400 से अधिक आवेदन आए थे। जिनका प्री टेस्ट लेकर 200 लोगों का चयन निःशुल्क कोचिंग के लिए चयन किया गया। जिन्हे लोकसेवा आयोग, व्यापंम, रेल्वे, बैंक एवं कर्मचारी चयन आयोग द्वारा आयोजित परीक्षाओं की तैयारी कराया जा रहा है।

– कलेक्टर श्री राजेन्द्र कुमार कटारा (bijapur collector )।

उक्त bijapur district Chhattisgarh जिले में हो रहे कार्यों से विकास के साथ-साथ युवाओं किसानों आदिवासियों को बढ़ने का जरिया मिल रहा है वहीं साथ नक्सल प्रभावित जिले के नक्सली भी मुख्यधारा में आ रहे हैं। उक्त बातों से स्पष्ट है कि आने वाले समय में जो लाभ दिखेंगे वह परिवर्तन लायेंगे।

read also –

छत्तीसगढ़ में जनजातीय संस्कृति के संरक्षण

chhattisgarh kaha hai: छत्तीसगढ़ के बारे में महत्वपूर्ण तथ्य जानिये

 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button