Religionwoman

chitralekha ji : भागवत कथा वाचक का छत्तीसगढ़ से है ये नाता

devi chitralekha ji Wikipedia : धर्म और अध्यात्मक का प्रचार-प्रसार करने के साथ लोकप्रियता हासिल कर चुके  अपने भजनों और कथाओं से लोगों को धर्म की सीख और उपदेश देते देते पूरा जीवन ईश्वर की साधना में लगा देते हैं।  हर किसी को यह जानने की अभिलाषा रहती है कि क्या भागवत कथावाचक शादीशुदा है (devi chitralekha ji marrige ) लेकिन आज हम आपको बतायेंगे ऐसी ही एक लोकप्रिय कथावाचक के बारे में जो शादी शुदा हैं परंतु कम ही लोग इस बारे में जानते हैं।  

About devi chitralekha ji

devi chitralekha husband details : छत्तीसगढ़ से है ये नाता – 

devi chitralekha जिनका भजन काफी लोकप्रियता के साथ सुना जाता है। हजारों लाखों की संख्या में लोग कथा सुनने आते हैं।  devi chitralekha husband – माधव तिवारी (madhav prabhu ji ) जो बिलासपुर के रहने वाले हैं वह अरुण तिवारी के पुत्र हैं उनके साथ देवी चित्रलेखा (chitralekha) ने कुछ वर्षों पहले की है। इस शादी के वीडियों भी सोशल मीडिया में मिल जायेंगे आप देख सकते हैं। 

देवी चित्रलेखा कहा जन्मी हैं?

ब्राम्हण परिवार में जन्मी देवी चित्रलेखा का जन्म 19 जनवरी 1997 को हुआ है। हरियाणा के खम्बी गांव में चित्रलेखा का जन्म हुआ है। देवी चित्रलेखा ने शासकीय स्कूल से अपनी शिक्षा पूरी की है।। देवी चित्रलेखा के पिता का नाम तुकाराम शर्मा है और माता का नाम चमेली देवी। 

devi chitralekha ji quotes in hindi : 

देवी चित्रलेखा (devi chitralekha ji) के बारे में एक बात गौर करने वाली हैं कि वह कृष्ण भजन से लोकप्रिय हुर्ई हैं  इन्होने बृज भाषा को अपनी कथाओं से जोड़ लिया है क्योंकि भगवान कृष्ण की नगरी गोकुल में बृज भाषा ही बोली जाने से वहॉ का माहौल झलकता है।। इसीलिये तो देवी चित्रलेखा (chitralekha ji biography )कहती है कि हमारे जीवन का कुछ समय हमें दूसरों को मदद करने के लिए देना चाहिए और हमारे माता-पिता की देखभाल करनी चाहिए. वे सभी भक्तों के दिल में भगवान कृष्ण की धार्मिक कहानी के साथ उनके अनमोल आवाज के माध्यम से जगह ले ली हैं।  वह इस संस्कृति को प्यार करती है और वह अपनी प्रेरक और धार्मिक किताबें जैसे श्रीमद भागवत गीता ( shrimad bhagwat geeta ) का ज्ञान देती हैं। 

इसी प्रकार के जानकारियों और पोस्ट के लिये जुड़े रहिये जनता पोस्ट से।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button