Chhattisgarh

गणतंत्र दिवस 2024 : Chhattisgarh Jhanki की खासियत क्या होगी जानें रिपब्ल्कि डे 2024 में

गणतंत्र दिवस 2024 : भारत के 28 राज्यों के बीच तेज़ प्रतियोगिता के बाद, इस साल छत्तीसगढ़ की झांकी “बस्तर की आदिम जनसंसद: मुरिया दरबार” ने नई दिल्ली में होने वाली गणतंत्र दिवस परेड ( रिपब्ल्कि डे 2024 ) के लिए चयन किया गया है. नई-दिल्ली के कर्तव्यपथ पर होने वाली परेड में इसमें 16 राज्यों का शामिल होने का और महत्वपूर्ण होने का इलान किया गया है. इस लेख में छत्तीसगढ़ की कौन सी झांकी गणतंत्र दिवस परेड में आपको बताया जा रहा है कि झांकी किस प्रकार से दिखाई जायेगी छत्तीसगढ़ की और दिल्ली में थीम क्या होगी

छत्तीसगढ़ राज्य की झांकी- गणतंत्र दिवस 2024 की झांकी की थीम और डिजाइन :

Chhattisgarh Jhanki : गणतंत्र दिवस पर भारत सरकार की थीम क्या है तो आपको बता दें कि छत्तीसगढ़ की झांकी भारत सरकार की थीम ‘भारत लोकतंत्र की जननी’ पर आधारित है. यह झांकी जनजातीय समाज में आदि-काल से उपस्थित लोकतांत्रिक चेतना और परंपराओं को दर्शाती है, जो आजादी के 75 साल बाद भी राज्य के बस्तर संभाग में जीवंत और प्रचलित है. गणतंत्र दिवस पर छत्तीसगढ़ की झांकी का नाम क्या होगा – झांकी में केंद्रीय विषय “आदिम जन-संसद” के अंतर्गत जगदलपुर के मुरिया दरबार और उसके उद्गम-सूत्र लिमऊ-राजा को दर्शाया गया है.

Chhattisgarh Jhanki 2024 Credit – Youtube

Chhattisgarh Jhankiगणतंत्र दिवस 2024 की तैयारी प्रक्रिया :

Chhattisgrh Jhanki Theme in Republic day 2024 झांकी की थीम और डिजाइन को स्थानीय स्तर पर वृहद अन्वेषण और वरिष्ठ अधिकारियों के मार्गदर्शन में तैयार किया गया. इस विषय वस्तु पर आधारित झांकी को पांच चरणों की कठिन प्रक्रिया के बाद अंतिम स्वीकृति मिली है. रक्षा मंत्रालय की विशेषज्ञ समिति के सामने थीम और डिजाइन के चयन के बाद झांकी का थ्रीडी मॉडल प्रस्तुत किया गया. अंत में संगीत चयन के साथ ही झांकी को अंतिम स्वीकृति मिल गई. झांकी की थीम और डिजाइन ने चयनकर्ताओं को खासा आकर्षित किया.

Chhattisgarh Republic Day 2024 राष्ट्रीय परेड में भाग लेने वाली झांकियों के लिए प्रक्रिया:

परेड में शामिल होने वाली झांकियों के लिए सभी राज्यों, केंद्र शासित प्रदेशों, केंद्रीय मंत्रालय और विभागों से रक्षा मंत्रालय प्रस्ताव मांगता है. इन प्रस्तावों का मूल्यांकन किया जाता है. झांकियों के चयन के लिए विशेषज्ञ समिति के साथ विभिन्न चरणों में कई बैठकें होती हैं. कमेटी में कला, संस्कृति, चित्रकला, मूर्तिकला, संगीत, वास्तुकला के क्षेत्र में प्रतिष्ठित व्यक्ति, कोरियोग्राफर आदि शामिल रहते हैं. विशेषज्ञ समिति थीम के आधार पर प्रस्तावों की जांच करती है. सिफारिशें करने से पहले कमेटी द्वारा अवधारणा, डिजाइन और इसके दृश्य प्रभाव पर ध्यान दिया जाता है.

gantantra divas 2024 – वैसे आपको बता दें कि छत्तीसगढ़ की झांकी 2023 के गणतंत्र दिवस में नहीं दिखी थी इसके अलावा साल 2023 में गणतंत्र दिवस में उत्तराखंड की झांकी को प्रथम पुरस्कार मिला था। अब 2024 गणतंत्र दिवस में छत्तीसगढ़ की झांकी को प्रथम पुरस्कार मिले ऐसी संभावना है । परंतु अब देखना यह होगा कि छत्तीसगढ़ की झांकी को कितना ज्यादा प्रतिसाद मिलता है ।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button