India

Ujjwala Yojana in hindi : धुआँ-मुक्त रसोईघर के सपने साकार : उज्ज्वला योजना

pradhan mantri ujjwala yojana scheme : भारत सरकार की “विकसित भारत संकल्प यात्रा” के दौरान उज्ज्वला योजना ने देशभर में धमाल मचा रखा है। इस योजना के अंतर्गत, यात्रा के दौरान, अनेक महिलाएं ने पीएम उज्ज्वला योजना की सकारात्मक पहलुओं को बड़े संख्या में लोगों के सामने प्रस्तुत किया। यहाँ हम देखेंगे कि इस योजना के कुछ अद्भुत परिणामों के साथ जुड़ी सीमा कुमारी और बचन देवी की कहानियां:

सीमा कुमारी की कहानी:

सीमा कुमारी, जो उत्तर प्रदेश के चंदौली जिले में रहती हैं, उनका जीवन पहले बहुत ही कठिन था। रोजाना खाना पकाने के लिए लकड़ी इकट्ठा करना उन्हें बहुत तकलीफ में डाल देता था, और धुएं के कारण सिरदर्द से पीड़ित रहती थीं। “प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना” के तहत मिले एलपीजी सिलेंडर ने उन्हें न केवल धुआँ से मुक्ति दिलाई, बल्कि उन्होंने बिना किसी परेशानी के समय पर खाना बनाना शुरू कर दिया। इससे सीमा कुमारी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के प्रति अपनी कृतज्ञता व्यक्त की है, क्योंकि इससे उनके जीवन में काफी सुधार हुआ है।

Read – Coal Production : कोयले का उत्पादन : बढ़ोतरी में कदम बढ़ाता भारत

बचन देवी की कहानी:

जम्मू-कश्मीर के कठुआ जिले की बचन देवी को भी ऐसी ही परेशानियों से जूझना पड़ता था। हर रोज़ लकड़ी इकट्ठा कर धुएं में भोजन पकाने वाली बचन देवी ने “प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना” के तहत मिले गैस सिलेंडर से अपनी समस्याओं का समाप्ति पाई और उनका जीवन बेहतर हो गया। बचन देवी ने एलपीजी सिलेंडर के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के प्रति अपनी कृतज्ञता व्यक्त की है, क्योंकि इससे उन्हें लकड़ी इकट्ठा करने के थकाऊ कार्य से राहत मिली, और अब वह समय पर अपने बच्चों के लिए आसानी से भोजन बना पा रही हैं।

पीएम उज्ज्वला योजना से पहले महिलाओं का जीवन:

इस से पहले, भारत में करोड़ों परिवार जलाऊ लकड़ी, कोयला, और गाय के गोबर के उपलों का उपयोग करके खाना पकाने के लिए बहुत से परिवार मजबूर थे। महिलाओं के लिए धुएं-भरे रसोईघर में भोजन पकाने की वजह से दिनभर खांसना और साँस लेने में परेशानी होना आम बात थी। इस से निजात पाने के लिए महिलाएं ने उम्मीद ही छोड़ दी थीं।

मई 2016 में “प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना” के प्रारम्भ होने से ग्रामीण और वंचित परिवारों को स्वच्छ खाना पकाने के ईंधन की सुविधा मिली। इस योजना ने कई पीढ़ियों से रसोईघर में परेशानियों का समाप्त किया और महिलाओं को धुआँ-मुक्त रसोई की ओर कदम बढ़ाने में मदद की है।

pradhanmantri ujjwala yojana connection

modi sarkar ki yojna : इस आज़ादी के अमृत महोत्सव में, हम सीमा कुमारी और बचन देवी जैसी नारीयों की कहानियों से प्रेरित होते हैं जो अपने संघर्षों के बावजूद उज्ज्वल भविष्य की दिशा में बदलाव लाने में सक्रिय रूप से भाग ले रही हैं। ये कहानियां दिखाती हैं कि “प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना” ने न केवल धुआँ मुक्त रसोई उपलब्ध कराई है, बल्कि यह भी महिलाओं के जीवन में एक अद्वितीय बदलाव लेकर आई है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button